in

जिले में फिर पैर परासने लगा कोरोना संक्रमण, दो दिन में पांच मामले आए सामने


ख़बर सुनें

जींद। जिले में एक बार फिर से कोरोना संक्रमण पैर परासरने लगा है। दो दिन में संक्रमण के पांच मामले सामने आ चुके हैं। स्वास्थ्य निदेशालय ने कोरोना जांच के लिए सैंपलों की संख्या बढ़ाने के निर्देश दिए हुए हैं लेकिन संख्या नहीं बढ़ पा रही है। फिलहाल औसतन प्रतिदिन 200 लोगों के सैंपल लिए जा रहे हैं।
कम सैंपल होने के कारण जिले में संक्रमण की गति बढने की आशंका है। रविवार को स्वास्थ्य विभाग को 325 लोगों की कोरोना जांच रिपोर्ट मिली। इनमें से तीन लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। स्वास्थ्य विभाग को 46 लोगों की कोरोना जांच रिपोर्ट मिली। इनमें से दो लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इस समय जिले में पांच एक्टिव केस हो गए हैं। कोरोना नोडल अधिकारी डॉ. पालेराम कटारिया ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग अब तक जिले के 478253 लोगों के सैंपल ले चुका है, जिनमें से 24366 लोग संक्रमित मिले हैं। इनमें से 23810 लोग ठीक हो चुके हैं जबकि 551 लोगों की मौत हो चुकी है। इस समय जिले में पांच एक्टिव केस हैं। अप्रैल महीने से ही स्वास्थ्य निदेशालय की तरफ से जिले में प्रतिदिन औसतन एक हजार कोरोना जांच के लिए सैंपल लेने के निर्देश जारी किए थे लेकिन स्वास्थ्य कर्मचारियों की कमी के कारण सैंपलों की संख्या नहीं बढ़ पा रही है। कोरोना काल के दौरान स्वास्थ्य विभाग ने 42 कर्मचारियों की नियुक्ति की थी, जिनका काम केवल कोरोना से संबंधित था। इन कर्मचारियों को एक अप्रैल से हटा दिया गया था। अब फिर से इन कर्मचारियों की नियुक्ति के निर्देश जारी किए गए हैं। हालांकि इन कर्मचारियों की एक जून से नियुक्ति करनी थी लेकिन अभी तक इनकी नियुक्ति नहीं हो पाई है। इनकी नियुक्ति होने के बाद ही सैंपलों की संख्या बढ़ पाएगी।
बॉक्स
स्वास्थ्य निदेशालय के निर्देश के अनुसार हटाए गए 42 कर्मचारियों की नियुक्ति की जानी है। इनकी ड्यूटी कोरोना सैंपलिंग, जांच तथा अन्य कार्यों में लगाई जाएगी। पहले भी यह कर्मचारी केवल कोरोना से संबंधित कार्य ही कर रहे थे। इनकी नियुक्ति के बाद सैंपलों की संख्या बढ़ाई जाएगी।
-डॉ. मंजू कादियान, सिविल सर्जन।

जींद। जिले में एक बार फिर से कोरोना संक्रमण पैर परासरने लगा है। दो दिन में संक्रमण के पांच मामले सामने आ चुके हैं। स्वास्थ्य निदेशालय ने कोरोना जांच के लिए सैंपलों की संख्या बढ़ाने के निर्देश दिए हुए हैं लेकिन संख्या नहीं बढ़ पा रही है। फिलहाल औसतन प्रतिदिन 200 लोगों के सैंपल लिए जा रहे हैं।

कम सैंपल होने के कारण जिले में संक्रमण की गति बढने की आशंका है। रविवार को स्वास्थ्य विभाग को 325 लोगों की कोरोना जांच रिपोर्ट मिली। इनमें से तीन लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। स्वास्थ्य विभाग को 46 लोगों की कोरोना जांच रिपोर्ट मिली। इनमें से दो लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इस समय जिले में पांच एक्टिव केस हो गए हैं। कोरोना नोडल अधिकारी डॉ. पालेराम कटारिया ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग अब तक जिले के 478253 लोगों के सैंपल ले चुका है, जिनमें से 24366 लोग संक्रमित मिले हैं। इनमें से 23810 लोग ठीक हो चुके हैं जबकि 551 लोगों की मौत हो चुकी है। इस समय जिले में पांच एक्टिव केस हैं। अप्रैल महीने से ही स्वास्थ्य निदेशालय की तरफ से जिले में प्रतिदिन औसतन एक हजार कोरोना जांच के लिए सैंपल लेने के निर्देश जारी किए थे लेकिन स्वास्थ्य कर्मचारियों की कमी के कारण सैंपलों की संख्या नहीं बढ़ पा रही है। कोरोना काल के दौरान स्वास्थ्य विभाग ने 42 कर्मचारियों की नियुक्ति की थी, जिनका काम केवल कोरोना से संबंधित था। इन कर्मचारियों को एक अप्रैल से हटा दिया गया था। अब फिर से इन कर्मचारियों की नियुक्ति के निर्देश जारी किए गए हैं। हालांकि इन कर्मचारियों की एक जून से नियुक्ति करनी थी लेकिन अभी तक इनकी नियुक्ति नहीं हो पाई है। इनकी नियुक्ति होने के बाद ही सैंपलों की संख्या बढ़ पाएगी।

बॉक्स

स्वास्थ्य निदेशालय के निर्देश के अनुसार हटाए गए 42 कर्मचारियों की नियुक्ति की जानी है। इनकी ड्यूटी कोरोना सैंपलिंग, जांच तथा अन्य कार्यों में लगाई जाएगी। पहले भी यह कर्मचारी केवल कोरोना से संबंधित कार्य ही कर रहे थे। इनकी नियुक्ति के बाद सैंपलों की संख्या बढ़ाई जाएगी।

-डॉ. मंजू कादियान, सिविल सर्जन।

.


बजरंग पूनिया ने अलमाटी में जीता ब्रॉन्ज, अमन को सीनियर स्तर पर पहला अंतरराष्ट्रीय गोल्ड मेडल

रेलवे ने गर्मी की छुट्टियों में बढ़ती यात्रियों की संख्या को देखते हुए बढाई रेल में कोच की संख्या