in

जमीन की नकली जीपीए तैयार करा धोखाधड़ी से नाम कराने का मुख्य आरोपी गिरफ्तार


ख़बर सुनें

भिवानी। पुलिस ने 72 कनाल 19 मरला जमीन की नकली जीपीए तैयार कराकर जमीन को धोखाधड़ी से अपने नाम कराने के मुख्य आरोपी गिरफ्तार किया है।
दिल्ली वासी सोनिया ने सिवानी थाने मेें शिकायत दी थी कि उसके पिता ठाकरदास वासी सिवानी की 26 सितंबर 2008 को मौत हो गई थी। जिसके बाद उनकी कृषि भूमि उसकी माता के नाम दर्ज हो गई थी। उसकी माता का देहांत तीन फरवरी 2020 को हो गया था। कुछ लोगों ने गाजियाबाद (उत्तर प्रदेश) से कृषि भूमि की नकली जीपीए तैयार कर दो रजिस्ट्री बुधराम की लड़की व एक अन्य महिला के नाम धोखाधड़ी से करवा दी। इस संबंध में पुलिस ने धोखाधड़ी का केस दर्ज किया। सिवानी पुलिस के उपनिरीक्षक सज्जन सिंह ने नकली जीपीए तैयार करवा कर धोखाधड़ी से जमीन नाम कराने के मुख्य आरोपी को सिवानी बस स्टैंड से गिरफ्तार किया। उसकी पहचान सतीश कुमार वासी ढाबलान नरवाना के रूप में हुई है। पूछताछ में आरोपी सतीश ने बताया कि उसने फर्जी जीपीए तैयार करवाकर तमाम जमीन अपने नाम करवा ली थी और फिर उस जमीन को धोखे से आगे एक अन्य व्यक्ति को बेच दिया था। पुलिस ने आरोपी को न्यायालय में पेश किया। जहां से उसे जिला कारागार भेजने के आदेश दिए हैं। पुलिस इस मामले में आठ आरोपियों को पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है।

भिवानी। पुलिस ने 72 कनाल 19 मरला जमीन की नकली जीपीए तैयार कराकर जमीन को धोखाधड़ी से अपने नाम कराने के मुख्य आरोपी गिरफ्तार किया है।

दिल्ली वासी सोनिया ने सिवानी थाने मेें शिकायत दी थी कि उसके पिता ठाकरदास वासी सिवानी की 26 सितंबर 2008 को मौत हो गई थी। जिसके बाद उनकी कृषि भूमि उसकी माता के नाम दर्ज हो गई थी। उसकी माता का देहांत तीन फरवरी 2020 को हो गया था। कुछ लोगों ने गाजियाबाद (उत्तर प्रदेश) से कृषि भूमि की नकली जीपीए तैयार कर दो रजिस्ट्री बुधराम की लड़की व एक अन्य महिला के नाम धोखाधड़ी से करवा दी। इस संबंध में पुलिस ने धोखाधड़ी का केस दर्ज किया। सिवानी पुलिस के उपनिरीक्षक सज्जन सिंह ने नकली जीपीए तैयार करवा कर धोखाधड़ी से जमीन नाम कराने के मुख्य आरोपी को सिवानी बस स्टैंड से गिरफ्तार किया। उसकी पहचान सतीश कुमार वासी ढाबलान नरवाना के रूप में हुई है। पूछताछ में आरोपी सतीश ने बताया कि उसने फर्जी जीपीए तैयार करवाकर तमाम जमीन अपने नाम करवा ली थी और फिर उस जमीन को धोखे से आगे एक अन्य व्यक्ति को बेच दिया था। पुलिस ने आरोपी को न्यायालय में पेश किया। जहां से उसे जिला कारागार भेजने के आदेश दिए हैं। पुलिस इस मामले में आठ आरोपियों को पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है।

.


फार्मेसी काउंसिल में भ्रष्टाचार : एक लाख में मिलती है डिग्री, 60 हजार में होता है रजिस्ट्रेशन

तेल डलवाने वर्कशॉप आ रही आरटीए की गाड़ी से टकराई बाइक