in

छठे सेमेस्टर की परीक्षाओं में कोई भी पांच प्रश्रों के हल का आप्शन व रिअपीयर के फार्म की अंतिम तिथि बढ़वाने की मांग को लेकर एसएफआ


विश्वविद्यालय में मांगों को लेकर ज्ञापन सौंपने जाते एसएफआई के सदस्य।

विश्वविद्यालय में मांगों को लेकर ज्ञापन सौंपने जाते एसएफआई के सदस्य।
– फोटो : Jind

ख़बर सुनें

जींद। एसएफआई और एबीवीपी की जिला कमेटी ने मंगलवार को छठे सेमेस्टर की परीक्षाओं में कोई भी पांच प्रश्रों के हल का आप्शन दिलवाने और रिअपीयर ई फार्म की तारीख को बढ़वाने की मांग को लेकर विश्वविद्यालय के परीक्षा नियंत्रक विशाल वर्मा को ज्ञापन सौंपा।
एसएफआई की जिलाध्यक्ष मधु और एबीवीपी के रोहित सैनी ने बताया कि सीआरएसयू विश्वविधालय द्वारा स्नातक और परास्नातक की अंतिम वर्ष की परीक्षाएं 16 जून से अयोजित करवाई जा रहीं हैं। उच्च शिक्षा नीति के तहत किसी भी कोर्स की अगर 90 दिन की कक्षाएं नहीं लगती है तो परीक्षाएं नहीं करवाई जा सकती, लेकिन समय की कमी के कारण यह परीक्षाएं समय से पहले आयोजित करवाई जा रही हैं। अतिरिक्त कक्षाएं लगाने के बावजूद भी विद्यार्थियों का पाठ्यक्रम अभी तक पूरा नहीं हुआ। इससे विद्यार्थी पाठ्यक्रम पुराना होने के कारण परीक्षाओं के लिए पूरी तरह तैयार नहीं है। विश्वविद्यालय के द्वारा मार्च में स्पेशल मौका देकर परीक्षाएं आयोजित करवाई गई थी जिनका परिणाम चार जून को जारी किया गया। 4 जून को बिना अतिरिक्त शुल्क के रिअपीयर के फॉर्म भरने की तिथि निर्धारित की गई थी। परिणाम देरी से आने के कारण सभी विद्यार्थी अपना रिअपीयर का फॉर्म भर नहीं पाए। विद्यार्थियों को अब अतिरिक्त शुल्क देकर फॉर्म भरना पड़ रहा है। उन्होंने विश्वविद्यालय प्रशासन से मांग की है कि रिअपीयर के फॉर्म की तारीख को 11 जून तक भरने की अनुमति दी जाए। इस अवसर पर मधु, अक्षय, अमरदीप, सावन, साहिल, सुशीला, मीरा मौजूद रहे।

जींद। एसएफआई और एबीवीपी की जिला कमेटी ने मंगलवार को छठे सेमेस्टर की परीक्षाओं में कोई भी पांच प्रश्रों के हल का आप्शन दिलवाने और रिअपीयर ई फार्म की तारीख को बढ़वाने की मांग को लेकर विश्वविद्यालय के परीक्षा नियंत्रक विशाल वर्मा को ज्ञापन सौंपा।

एसएफआई की जिलाध्यक्ष मधु और एबीवीपी के रोहित सैनी ने बताया कि सीआरएसयू विश्वविधालय द्वारा स्नातक और परास्नातक की अंतिम वर्ष की परीक्षाएं 16 जून से अयोजित करवाई जा रहीं हैं। उच्च शिक्षा नीति के तहत किसी भी कोर्स की अगर 90 दिन की कक्षाएं नहीं लगती है तो परीक्षाएं नहीं करवाई जा सकती, लेकिन समय की कमी के कारण यह परीक्षाएं समय से पहले आयोजित करवाई जा रही हैं। अतिरिक्त कक्षाएं लगाने के बावजूद भी विद्यार्थियों का पाठ्यक्रम अभी तक पूरा नहीं हुआ। इससे विद्यार्थी पाठ्यक्रम पुराना होने के कारण परीक्षाओं के लिए पूरी तरह तैयार नहीं है। विश्वविद्यालय के द्वारा मार्च में स्पेशल मौका देकर परीक्षाएं आयोजित करवाई गई थी जिनका परिणाम चार जून को जारी किया गया। 4 जून को बिना अतिरिक्त शुल्क के रिअपीयर के फॉर्म भरने की तिथि निर्धारित की गई थी। परिणाम देरी से आने के कारण सभी विद्यार्थी अपना रिअपीयर का फॉर्म भर नहीं पाए। विद्यार्थियों को अब अतिरिक्त शुल्क देकर फॉर्म भरना पड़ रहा है। उन्होंने विश्वविद्यालय प्रशासन से मांग की है कि रिअपीयर के फॉर्म की तारीख को 11 जून तक भरने की अनुमति दी जाए। इस अवसर पर मधु, अक्षय, अमरदीप, सावन, साहिल, सुशीला, मीरा मौजूद रहे।

.


आठ प्रत्याशियों के बीच होगी चौधर की जंग

एनआईआईएफटी टेक्सटाइल डिजाइन के विद्यार्थियों ने लगाई प्रदर्शनी