in

गाड़ी से उतर साइकिल पर सफर करेंगे नागरिक अस्पताल के अधिकारी व कर्मचारी


ख़बर सुनें

भिवानी। कर्मचारियों की सेहत और पर्यावरण संरक्षण के लिए स्वास्थ्य विभाग ने नई पहल की है। सिविल सर्जन कार्यालय में कार्यरत अधिकारी और कर्मचारी अब हर मंगलवार को पैदल और साइकिल पर ही घर से ऑफिस तक का सफर तय करेंगे। इसके लिए सिविल सर्जन ने पत्र जारी किया है। साथ ही मंगलवार को वे और उनकी पत्नी उप सिविल सर्जन डॉ. सुमन विश्वकर्मा अपनी-अपनी साइकिल पर सवार होकर कार्यालय पहुंचे। इसके अलावा 120 में से करीब 50 अधिकारी और कर्मचारी भी पैदल, साइकिल और सार्वजनिक वाहनों में सफर करते हुए अस्पताल पहुंचे।
सिविल सर्जन डॉ. रघुबीर शांडिल्य ने बताया कि पर्यावरण और स्वास्थ्य को देखते अधिकारियों व कर्मचारियों से अपील की है। जो कर्मचारी शहर से आते हैं वे पैदल या फिर साइकिल का प्रयोग कर कार्यालय आए। वहीं जो दूर दराज के क्षेत्र से आते है वे सार्वजनिक वाहनों का प्रयोग करके ही कार्यालय में पहुंचे। बदलते क्लाइमेट और ग्लोबल वार्मिंग से आज पूरी दुनिया जूझ रही है। दिन-प्रतिदिन प्रदूषण का खतरा इतना बढ़ता जा रहा है कि इसका सीधा असर जीवन पर पड़ता हुआ दिखाई दे रहा है फिर चाहे वह इंसान हो या पशु पक्षी। बिगड़ता पर्यावरण हर किसी को प्रभावित कर रहा है। उन्होंने कहा कि अपने आपको स्वस्थ रखने के लिए व्यायाम और साइक्लिंग को दिनचर्या का हिस्सा अवश्य बनाए। सिविल सर्जन ने अपील करते हुए की कि अपने आप को स्वस्थ रखने के लिए प्रत्येक कर्मचारी प्रतिदिन दो से तीन किलोमीटर साइकिल अवश्य चलाएं। इस अवसर पर उप सिविल सर्जन डॉ. सुमन विश्वकर्मा, डॉ. विनोद पंवार, सतपाल पंघाल आदि अधिकारी व कर्मचारी उपस्थित रहे।

भिवानी। कर्मचारियों की सेहत और पर्यावरण संरक्षण के लिए स्वास्थ्य विभाग ने नई पहल की है। सिविल सर्जन कार्यालय में कार्यरत अधिकारी और कर्मचारी अब हर मंगलवार को पैदल और साइकिल पर ही घर से ऑफिस तक का सफर तय करेंगे। इसके लिए सिविल सर्जन ने पत्र जारी किया है। साथ ही मंगलवार को वे और उनकी पत्नी उप सिविल सर्जन डॉ. सुमन विश्वकर्मा अपनी-अपनी साइकिल पर सवार होकर कार्यालय पहुंचे। इसके अलावा 120 में से करीब 50 अधिकारी और कर्मचारी भी पैदल, साइकिल और सार्वजनिक वाहनों में सफर करते हुए अस्पताल पहुंचे।

सिविल सर्जन डॉ. रघुबीर शांडिल्य ने बताया कि पर्यावरण और स्वास्थ्य को देखते अधिकारियों व कर्मचारियों से अपील की है। जो कर्मचारी शहर से आते हैं वे पैदल या फिर साइकिल का प्रयोग कर कार्यालय आए। वहीं जो दूर दराज के क्षेत्र से आते है वे सार्वजनिक वाहनों का प्रयोग करके ही कार्यालय में पहुंचे। बदलते क्लाइमेट और ग्लोबल वार्मिंग से आज पूरी दुनिया जूझ रही है। दिन-प्रतिदिन प्रदूषण का खतरा इतना बढ़ता जा रहा है कि इसका सीधा असर जीवन पर पड़ता हुआ दिखाई दे रहा है फिर चाहे वह इंसान हो या पशु पक्षी। बिगड़ता पर्यावरण हर किसी को प्रभावित कर रहा है। उन्होंने कहा कि अपने आपको स्वस्थ रखने के लिए व्यायाम और साइक्लिंग को दिनचर्या का हिस्सा अवश्य बनाए। सिविल सर्जन ने अपील करते हुए की कि अपने आप को स्वस्थ रखने के लिए प्रत्येक कर्मचारी प्रतिदिन दो से तीन किलोमीटर साइकिल अवश्य चलाएं। इस अवसर पर उप सिविल सर्जन डॉ. सुमन विश्वकर्मा, डॉ. विनोद पंवार, सतपाल पंघाल आदि अधिकारी व कर्मचारी उपस्थित रहे।

.


सामूहिक दुष्कर्म के मामले में तीन आरोपी काबू

लॉरेंस बिश्नोई गैंग के हिस्सा हैं भिवानी के 100 से अधिक युवा