किसानों व ग्रामीणों ने प्रदर्शन कर चार घंटे बिजली आपूर्ति रखी ठप


ख़बर सुनें

कनीना। बिजली कटौती की समस्या से नाराज खैराना, झिंगावान, भोजावास गांवों की ढाणियों में रहने वाले तीन दर्जन से अधिक किसानों ने वीरवार को मुंडिया खेड़ा बिजली उपकेंद्र का घेराव किया। गुस्साए ग्रामीणों ने दोपहर एक बजे से शाम चार बजे तक सभी गांवों की बिजली आपूर्ति ठप करा दी। इससे पहले भी 6 जून सोमवार को किसानों ने यहां जमकर हंगामा किया था। किसानों एवं ग्रामीणों का कहना था कि बार-बार मांग के बावजूद भी अधिकारी उनकी समस्या पर कोई ध्यान नहीं दे रहे हैं।
उन्होंने बताया कि समस्याओं के बारे में कई बार बिजली विभाग के आला अधिकारियों व एसएसओ कनीना को बता चुके हैं, जबकि 6 जून को उपकेंद्र से ही विधायक सीताराम यादव को भी बिजली की समस्या के बारे में फोन पर बताया था और उन्होंने भी आश्वस्त किया था कि उनकी समस्या जल्द ही ठीक होगी, लेकिन विधायक के आश्वासन को दस दिन का समय बीतने के बावजूद भी समस्या का समाधान नहीं हो पाया है। इसके कारण उन्हें मजबूरीवश यह कदम उठाना पड़ा। ग्रामीणों ने बताया कि एसएचओ कनीना ने फोन पर निगम के उच्च अधिकारियों से बात करवाई है और कहा है कि कल सुबह ठेकेदार द्वारा ट्रांसफार्मर लगवाने का काम करना शुरू कर दिया जाएगा।
शुक्रवार को रात के 8 बजे तक उनके ट्यूबवेलों व ढाणियों में रहने वाले ग्रामीणों एवं किसानों को नियमित रूप से बिजली आपूर्ति शुरू कर दी जाएगी। आश्वासन के बाद ग्रामीणों ने चेतावनी देते हुए कहा कि सुबह नौ बजे फिर से बिजली उपकेंद्र पर आएंगे यदि इस दौरान काम शुरू कर दिया तो वापस शांतिपूर्वक लोट जाएंगे अन्यथा पावर हाउस में ही अनशन पर बैठ जाएंगे। इस मौके पर एसएचओ कनीना ब्रह्मप्रकाश, एसडीओ अशोक कुमार, एसआई हरीश चौकी इंचार्ज दौंगड़ा अहीर, समेत पुलिस दलबल के साथ उपकेंद्र में पहुंचे।
कोट
गत 10 फरवरी को विभाग को पैट ट्रांसफार्मर लगाने के लिए सामान उपलब्ध कराने के बारे में विभाग के उच्चाधिकारियों को लिखा था, लेकिन अभी तक सामान नहीं मिल पाया है। इसके कारण पैट ट्रांसफार्मर नहीं लग पाए हैं। सामान उपलब्ध होते ही ट्रांसफार्मर लगाने का काम शुरू कर दिया जाएगा।
-एसडीओ डीएचबीवीएन कनीना, अशोक कुमार

कनीना। बिजली कटौती की समस्या से नाराज खैराना, झिंगावान, भोजावास गांवों की ढाणियों में रहने वाले तीन दर्जन से अधिक किसानों ने वीरवार को मुंडिया खेड़ा बिजली उपकेंद्र का घेराव किया। गुस्साए ग्रामीणों ने दोपहर एक बजे से शाम चार बजे तक सभी गांवों की बिजली आपूर्ति ठप करा दी। इससे पहले भी 6 जून सोमवार को किसानों ने यहां जमकर हंगामा किया था। किसानों एवं ग्रामीणों का कहना था कि बार-बार मांग के बावजूद भी अधिकारी उनकी समस्या पर कोई ध्यान नहीं दे रहे हैं।

उन्होंने बताया कि समस्याओं के बारे में कई बार बिजली विभाग के आला अधिकारियों व एसएसओ कनीना को बता चुके हैं, जबकि 6 जून को उपकेंद्र से ही विधायक सीताराम यादव को भी बिजली की समस्या के बारे में फोन पर बताया था और उन्होंने भी आश्वस्त किया था कि उनकी समस्या जल्द ही ठीक होगी, लेकिन विधायक के आश्वासन को दस दिन का समय बीतने के बावजूद भी समस्या का समाधान नहीं हो पाया है। इसके कारण उन्हें मजबूरीवश यह कदम उठाना पड़ा। ग्रामीणों ने बताया कि एसएचओ कनीना ने फोन पर निगम के उच्च अधिकारियों से बात करवाई है और कहा है कि कल सुबह ठेकेदार द्वारा ट्रांसफार्मर लगवाने का काम करना शुरू कर दिया जाएगा।

शुक्रवार को रात के 8 बजे तक उनके ट्यूबवेलों व ढाणियों में रहने वाले ग्रामीणों एवं किसानों को नियमित रूप से बिजली आपूर्ति शुरू कर दी जाएगी। आश्वासन के बाद ग्रामीणों ने चेतावनी देते हुए कहा कि सुबह नौ बजे फिर से बिजली उपकेंद्र पर आएंगे यदि इस दौरान काम शुरू कर दिया तो वापस शांतिपूर्वक लोट जाएंगे अन्यथा पावर हाउस में ही अनशन पर बैठ जाएंगे। इस मौके पर एसएचओ कनीना ब्रह्मप्रकाश, एसडीओ अशोक कुमार, एसआई हरीश चौकी इंचार्ज दौंगड़ा अहीर, समेत पुलिस दलबल के साथ उपकेंद्र में पहुंचे।

कोट

गत 10 फरवरी को विभाग को पैट ट्रांसफार्मर लगाने के लिए सामान उपलब्ध कराने के बारे में विभाग के उच्चाधिकारियों को लिखा था, लेकिन अभी तक सामान नहीं मिल पाया है। इसके कारण पैट ट्रांसफार्मर नहीं लग पाए हैं। सामान उपलब्ध होते ही ट्रांसफार्मर लगाने का काम शुरू कर दिया जाएगा।

-एसडीओ डीएचबीवीएन कनीना, अशोक कुमार

.


What do you think?

Written by Haryanacircle

जूता कारोबारी की बेटी की हत्या में दो आरोपी गिरफ्तार

चंडीगढ़ में कांग्रेस का प्रदर्शन: राहुल गांधी से ED की पूछताछ का विरोध, नेताओं पर पानी की बौछार, पुलिस ने 90 को हिरासत में लिया