अवैध निर्माण चिह्नित कर भेजे जाएंगे नोटिस फिर भी मानक पूरे न किए तो होंगे सील


ख़बर सुनें

यमुनानगर। शहर में अवैध निर्माणों की हो रही शिकायतों पर नगर निगम कार्रवाई की तैयारी में है। इसकी पुष्टि नगर निगम कमिश्नर आयुष सिन्हा ने की। आयुष सिन्हा का कहना है कि इस बारे आईं शिकायतों की जांच कर नियमानुसार कार्रवाई अमल में लाएंगे। साथ ही निगम अपने स्तर पर भी ऐसे भवन चिह्नित करेगा, जिनके निर्माण में नियम व मानक पूरे नहीं हैं। ऐसे भवन के मालिक को नोटिस भेजे जाएंगे, जिसके बाद भी निर्माण संबंधी मानक पूरे नहीं करने पर नियमानुसार भवन को सील करने की कार्रवाई की जाएगी।
————–
अमर उजाला ने उठाया मामला-
शहर में रिहायशी नक्शे पर व्यवसायिक भवन या बिना नक्शे व अन्य मानक पूरे किए बगैर निर्माण होने के आरोप में लगातार बढ़ती शिकायतों पर अमर उजाला ने 19 जून को नोटिस और सीलिंग कार्रवाई खानापूर्ति शीर्षक से खबर प्रकाशित की। इसमें बताया कि दिसंबर-2021 से फरवरी-2022 के बीच पूर्व में पूर्व में निगम कमिश्नर रहे अजय सिंह तोमर व धीरेंद्र खड़गटा के कार्यकाल में कई निर्माण मानकों पर खरे न मिलने पर भवन मालिकों नोटिस भेजे गए और कई भवन सील भी हुए, किंतु दोनों कमिश्नर के तबादले के बाद यह कार्रवाई थम गई जबकि ऐसे अवैध निर्माणों की शिकायतेंलगातार बढ़ रहीं हैं। अब मौजूदा निगम कमिश्नर आयुष सिन्हा भी अवैध निर्माणों पर नियमानुसार कार्रवाई करने की बात कह रहे हैं।
—————

यमुनानगर। शहर में अवैध निर्माणों की हो रही शिकायतों पर नगर निगम कार्रवाई की तैयारी में है। इसकी पुष्टि नगर निगम कमिश्नर आयुष सिन्हा ने की। आयुष सिन्हा का कहना है कि इस बारे आईं शिकायतों की जांच कर नियमानुसार कार्रवाई अमल में लाएंगे। साथ ही निगम अपने स्तर पर भी ऐसे भवन चिह्नित करेगा, जिनके निर्माण में नियम व मानक पूरे नहीं हैं। ऐसे भवन के मालिक को नोटिस भेजे जाएंगे, जिसके बाद भी निर्माण संबंधी मानक पूरे नहीं करने पर नियमानुसार भवन को सील करने की कार्रवाई की जाएगी।

————–

अमर उजाला ने उठाया मामला-

शहर में रिहायशी नक्शे पर व्यवसायिक भवन या बिना नक्शे व अन्य मानक पूरे किए बगैर निर्माण होने के आरोप में लगातार बढ़ती शिकायतों पर अमर उजाला ने 19 जून को नोटिस और सीलिंग कार्रवाई खानापूर्ति शीर्षक से खबर प्रकाशित की। इसमें बताया कि दिसंबर-2021 से फरवरी-2022 के बीच पूर्व में पूर्व में निगम कमिश्नर रहे अजय सिंह तोमर व धीरेंद्र खड़गटा के कार्यकाल में कई निर्माण मानकों पर खरे न मिलने पर भवन मालिकों नोटिस भेजे गए और कई भवन सील भी हुए, किंतु दोनों कमिश्नर के तबादले के बाद यह कार्रवाई थम गई जबकि ऐसे अवैध निर्माणों की शिकायतेंलगातार बढ़ रहीं हैं। अब मौजूदा निगम कमिश्नर आयुष सिन्हा भी अवैध निर्माणों पर नियमानुसार कार्रवाई करने की बात कह रहे हैं।

—————

.


What do you think?

Written by Haryanacircle

लुधियाना में बड़ी सफलता: पुलिस ने गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई के सहपाठी समेत एक अन्य को दबोचा, दो पिस्तौल और 11 कारतूस बरामद

खुद को बैंक प्रतिनिधि बताकर पूछा ओटीपी, खाते से निकाले 99 हजार रुपये