in

अब परिवार पहचान पत्र से जुड़ेंगे घरों में लगे पेयजल कनेक्शन


ख़बर सुनें

फतेहाबाद। हरियाणा सरकार की बहुआयामी योजना परिवार पहचान पत्र (पीपीपी) से अब जिला के पेयजल उपभोक्ताओं को भी जोड़ा जाएगा। इसके लिए जनस्वास्थ्य विभाग ने तैयारियां शुरू कर दी है। इसके लिए 200 सक्षम युवाओं का सहयोग लिया जाएगा। विभाग के अनुसार, इससे जहां इस बात का पता लगेगा कि जिले में किस घर में कितने पानी के कनेक्शन हैं, वहीं कौन लोग पेयजल बिल कितने दिनों से नहीं भर रहे हैं। पहले चरण में ग्रामीण क्षेत्रों में यह सर्वे आरंभ कर लोगों को पीपीपी से जोड़ा जाएगा, इसके बाद शहरी तबके की बारी आएगी।
सरकार पहले ही बिजली कनेक्शन आदि को परिवार पहचान पत्र से जोड़ने का कार्य आरंभ कर चुकी है। अब घरों में लगे पानी के कनेक्शन को भी पीपीपी से जोड़ने की कवायद आरंभ कर दी है। जिसको लेकर जन स्वास्थ्य एवं अभियांत्रिकी विभाग ने टीमें गठित कर ली हैं। विभाग की टीम घर-घर जाकर वेबसाइट पर परिवार पहचान पत्र के साथ कनेक्शन जोड़ने का कार्य करेगी। इससे जो परिवार दूसरी जगह चले जाते हैं, जबकि कनेक्शन वैसे ही पड़ा रहता है। ऐसे में जिसके नाम पर कनेक्शन नहीं होगा। उस घर में रह रहे परिवार के नाम कनेक्शन किया जाएगा। परिवार पहचान पत्र से पेयजल कनेक्शन लिक करने के जन स्वास्थ्य एवं अभियांत्रिकी विभाग की टीम घर-घर जाएगी। इसके लिए 200 सक्षम युवाओं की मदद भी ली जाएगी। परिवार पहचान पत्र से पेयजल कनेक्शन जोड़ने का कार्य सोमवार से शुरू किया जाएगा। टीम घरों में जाकर परिवार के मुखिया का नाम, परिवार पहचान पत्र क्रमांक, फोन नंबर लेगी। इसके बाद मोबाइल पर विभाग की वेबसाइट से लिंक किया जाएगा।
पता चलेगा कि किस परिवार में कितने कनेक्शन
विभाग के इस सर्वे से जहां यह पता चलेगा कि किस परिवार के पास कितने पानी के कनेक्शन हैं, वहीं पेयजल बिल न भरने वाले लोगों का भी पता चल जाएगा। यही नहीं जो लोग लंबे समय से पेयजल बिल नहीं भर रहे हैं, उनके कनेक्शन भी काटे जा सकते हैं। साथ ही पीपीपी से पेयजल कनेक्शनों का पूरा डाटा जुड़ जाएगा, जिससे विभाग को पता होगा कि जिले में कितने पेयजल कनेक्शन हैं। इससे अवैध पेयजल कनेक्शनों की भी विभाग को जानकारी हो जाएगी साथ ही व्यर्थ पानी बहने वाले स्थानों को भी चिह्नित किया जाएगा। जिले में कई स्थानों पर सार्वजनिक स्थलों पर भी नल लगे हुए हैं और उनसे सारा दिन व्यर्थ पानी बहता रहता है, ऐसे कनेक्शनों को भी विभाग बंद करने की तैयारी में है।
ग्रामीण क्षेत्र में हैं 1 लाख 29 हजार पेयजल कनेक्शन
फतेहाबाद जिले के ग्रामीण क्षेत्र में जन स्वास्थ्य एवं अभियांत्रिकी विभागक के पास दर्ज आंकड़ों में 1 लाख 29 हजार पेयजल कनेक्शन हैं। फिलहाल ग्रामीण क्षेत्र में पेयजल कनेक्शनों को पीपीपी से जोड़ने कार्य आरंभ किया जा रहा है और विभाग इसके लिए तैैर भी है।
कोट
परिवार पहचान पत्र से पेयजल कनेक्शन लिंक किया जाएगा। इससे किस गांव में कितने कनेक्शन हैं। पेयजल किस व्यक्ति के नाम है। इसके बारे में पता चलता रहेगा। इसी के साथ जो व्यक्ति दूसरी जगह पेयजल कनेक्शन लेगा। इसके बारे में भी जानकारी अपडेट रहेगी। इसके लिए 200 सक्षम युवाओं को लगाया जाएगा। यह कार्य सोमवार से आरंभ कर दिया जाएगा। फिलहाल यह कार्य ग्रामीण क्षेत्र में शुरू किया जा रहा है।
-शर्माचंद लाली, जल संरक्षण अधिकारी, फतेहाबाद

फतेहाबाद। हरियाणा सरकार की बहुआयामी योजना परिवार पहचान पत्र (पीपीपी) से अब जिला के पेयजल उपभोक्ताओं को भी जोड़ा जाएगा। इसके लिए जनस्वास्थ्य विभाग ने तैयारियां शुरू कर दी है। इसके लिए 200 सक्षम युवाओं का सहयोग लिया जाएगा। विभाग के अनुसार, इससे जहां इस बात का पता लगेगा कि जिले में किस घर में कितने पानी के कनेक्शन हैं, वहीं कौन लोग पेयजल बिल कितने दिनों से नहीं भर रहे हैं। पहले चरण में ग्रामीण क्षेत्रों में यह सर्वे आरंभ कर लोगों को पीपीपी से जोड़ा जाएगा, इसके बाद शहरी तबके की बारी आएगी।

सरकार पहले ही बिजली कनेक्शन आदि को परिवार पहचान पत्र से जोड़ने का कार्य आरंभ कर चुकी है। अब घरों में लगे पानी के कनेक्शन को भी पीपीपी से जोड़ने की कवायद आरंभ कर दी है। जिसको लेकर जन स्वास्थ्य एवं अभियांत्रिकी विभाग ने टीमें गठित कर ली हैं। विभाग की टीम घर-घर जाकर वेबसाइट पर परिवार पहचान पत्र के साथ कनेक्शन जोड़ने का कार्य करेगी। इससे जो परिवार दूसरी जगह चले जाते हैं, जबकि कनेक्शन वैसे ही पड़ा रहता है। ऐसे में जिसके नाम पर कनेक्शन नहीं होगा। उस घर में रह रहे परिवार के नाम कनेक्शन किया जाएगा। परिवार पहचान पत्र से पेयजल कनेक्शन लिक करने के जन स्वास्थ्य एवं अभियांत्रिकी विभाग की टीम घर-घर जाएगी। इसके लिए 200 सक्षम युवाओं की मदद भी ली जाएगी। परिवार पहचान पत्र से पेयजल कनेक्शन जोड़ने का कार्य सोमवार से शुरू किया जाएगा। टीम घरों में जाकर परिवार के मुखिया का नाम, परिवार पहचान पत्र क्रमांक, फोन नंबर लेगी। इसके बाद मोबाइल पर विभाग की वेबसाइट से लिंक किया जाएगा।

पता चलेगा कि किस परिवार में कितने कनेक्शन

विभाग के इस सर्वे से जहां यह पता चलेगा कि किस परिवार के पास कितने पानी के कनेक्शन हैं, वहीं पेयजल बिल न भरने वाले लोगों का भी पता चल जाएगा। यही नहीं जो लोग लंबे समय से पेयजल बिल नहीं भर रहे हैं, उनके कनेक्शन भी काटे जा सकते हैं। साथ ही पीपीपी से पेयजल कनेक्शनों का पूरा डाटा जुड़ जाएगा, जिससे विभाग को पता होगा कि जिले में कितने पेयजल कनेक्शन हैं। इससे अवैध पेयजल कनेक्शनों की भी विभाग को जानकारी हो जाएगी साथ ही व्यर्थ पानी बहने वाले स्थानों को भी चिह्नित किया जाएगा। जिले में कई स्थानों पर सार्वजनिक स्थलों पर भी नल लगे हुए हैं और उनसे सारा दिन व्यर्थ पानी बहता रहता है, ऐसे कनेक्शनों को भी विभाग बंद करने की तैयारी में है।

ग्रामीण क्षेत्र में हैं 1 लाख 29 हजार पेयजल कनेक्शन

फतेहाबाद जिले के ग्रामीण क्षेत्र में जन स्वास्थ्य एवं अभियांत्रिकी विभागक के पास दर्ज आंकड़ों में 1 लाख 29 हजार पेयजल कनेक्शन हैं। फिलहाल ग्रामीण क्षेत्र में पेयजल कनेक्शनों को पीपीपी से जोड़ने कार्य आरंभ किया जा रहा है और विभाग इसके लिए तैैर भी है।

कोट

परिवार पहचान पत्र से पेयजल कनेक्शन लिंक किया जाएगा। इससे किस गांव में कितने कनेक्शन हैं। पेयजल किस व्यक्ति के नाम है। इसके बारे में पता चलता रहेगा। इसी के साथ जो व्यक्ति दूसरी जगह पेयजल कनेक्शन लेगा। इसके बारे में भी जानकारी अपडेट रहेगी। इसके लिए 200 सक्षम युवाओं को लगाया जाएगा। यह कार्य सोमवार से आरंभ कर दिया जाएगा। फिलहाल यह कार्य ग्रामीण क्षेत्र में शुरू किया जा रहा है।

-शर्माचंद लाली, जल संरक्षण अधिकारी, फतेहाबाद

.


पाकिस्तान ने चीन को दिया झटका, चीनी पेट्रोलियम आयात पर 10% शुल्क लगाया

तापमान बढ़ने से घरों में दुबके लोग, दिनभर चलती रही लू