अग्निपथ स्कीम: गहलोत बोले- RSS-BJP के नौजवानों की होगी भर्ती; बीजेपी को हरकत भारी पड़ेगी 


राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत ने अग्निपथ स्कीम को लेकर मोदी सरकार पर निशाना साधा है। गहलोत ने कहा कि मुझे चिंता लगी है। ये आरएसएस-बीजेपी के नौजवानों की भर्ती करके 4 साल की ट्रेनिंग दिलवाकर कहां भेजेंगे। सीएम गहलोत ने आज जयपुर एयरपोर्ट पर मीडिया से बात करते हुए कहा कि अगर इजरायल की तरह बात हमारे दिमाग में आई तो पहले युवाओं को विश्वास में लेना चाहिए था। लाखों युवक नौकरी का इंतजार कर रहे थे। उन पथ पर अग्निपथ और अग्निवीर थोप दिया। अशोक गहलोत ने कहा कि इजरायल में नौकरियों की कमी नहीं है। वहां मैनपावरकी कमी है। इसलिए उन्होंने एक सिस्टम बना रखा है। हमारे यहां मैन पावर की कमी नहीं है। नौकरियों की कमी है। उल्टा मामला है हमारे देश के अंदर। आप इजरायल से तुलना नहीं कर सकते। मुद्दों से ध्यान डायवर्ट करने के लिए नए-नए शिगूफे छोड़ दिए है। बीजेपी की हरकते भारी पड़ेगी। देश के नौजवार 4 साल से नौकरी का इंतजार कर रहे है। उन पर अचानक अग्निपथ और अग्निवीर थोप दिया।

सीबीआई रेड पर बोले- डटकर मुकाबला करूंगा

गहलोत ने कहा कि 50 साल से राजनीति कर रहा हूं। मुझे क्या डराएंगे। क्या धमकाएंगे। कल जो लोग राजनीति में आए है। इनकी अभी रगड़ाई भी नहीं हुई है। क्योंकि ये बड़े-बड़े पद पर आ गए। बिना रगड़े के पद पर आगे बढ़ गए। बीजेपी को या फिर कोई और लोग हो। एनएसयूआई से हमारे लोग आते हैं तो रगड़ाई पूरी होती है। भाजपा में ऊपर से कई लोग आ गए है। मोदी जी के नाम पर सरकारे बन गई है। बड़े-बड़े पद आ गए है। रगड़ाई होने के बाद मिला पद पर जिम्मेदारी से काम होता है। फिर इस प्रकार की हरकत नहीं करता है। 

जांच एजेंसियों से मिलने का समय फिर लूंगा 

संबंधित खबरें

गहलोत ने कहा कि आज  फिर मैं सीबीआई, ईडी और आईटी के प्रमुखों से फिर समय मागूंगा। तीनों एजेंसियां हमारे देश की प्राइमरी एजेंसियां है। प्रतिष्ठत संस्थाएं है। मैं मुख्यमंत्री और देश के नागरिक के हिसाब से बताऊंगा कि देश में आपकी बहुत प्रतिष्ठा है। लोकतंत्र में सुना जाता है। तीनों एजेंसियों के अफसरों को सुनना चाहिए। अफसरों को हमारी बात सुननी चाहिए। फैसला उनकों करना है। सुनने में क्या एतराज है। एजेंसियों को मुझे समय देना चाहिए। मैं एक फिर मिलने का समय मागूंगा। मैं अपने परिवार के बारे में कोई बात नहीं करने वाला हूं। 8 साल से छापे मारे जा रहे हैं। जमानत नहीं मिलती है। फिर ईडी और सीबीआई माफी मांगती है। यह नौबत क्यों आती है। गहलोत ने कहा कि देश में ऐसे कार्रवाई है। बाद में बैकफुट पर आना पड़ा है। अफसरों पर जिम्मेदारी होती है। दबाव में नहीं आना चाहिए। हम घबराने वाले नहीं है। मुकाबला करेंगे।

.


What do you think?

Written by Haryanacircle

कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने जिला मुख्यालयों पर धरना दिया

HBSE 10th Result 2022: हरियाणा बोर्ड 10वीं का रिजल्ट घोषित, यहां चेक करें