अग्निपथ स्कीम को लेकर गहलोत-पूनिया में जुबानी जंग: सीएम बोले- सेना में संविदा भर्ती करना अविवेकपूर्ण फैसला; बताई ये वजह 


राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक अग्निपथ स्कीम का विरोध किया है। स्कीम को लेकर सीएम गहलोत और भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया के बीच जुबानी जंग शुरू हो गई है। गहलोत ने योजना का विरोध  किया है। जबकि पूनिया ने योजना के फायदे बताएं है। गहलोत ने कहा कि राजस्थान के हजारों युवा देश सेवा के लिए सेना में भर्ती होते हैं। अग्निपथ योजना से राजस्थान समेत भारत के लाखों युवाओं में रोष एवं नाराजगी है। पूरे देश में युवा जिस तरह से आक्रोशित होकर विरोध-प्रदर्शन कर रहे हैं। उसे देखते हुए मोदी सरकार को योजना को तुरंत वापस लेना चाहिए। गहलोत ने कहा कि सेना जैसे संवदेनशील संस्थान में संविदा पर भर्ती करना अविवेकपूर्ण फैसला है। सेना को अभी तक गैर राजनीतिक और वित्तीय बंधनों से मुक्त रखा गया है। मैं युवाओं से अपील करता हूं कि विरोध में हिंसा का रास्ता ना अपनाएं। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने युवाओं से योजना का फायदा उठाने का आह्वान किया है। पूनिया ने कहा कि अग्निपथ योजना युवाओं के हित में है। पूनिया ने याेजना के फायदे भी बताए है। 

सचिन पायलट ने भी किया विरोध 

सचिन पायलट ने कहा कि मोदी सरकार ने करोड़ों युवाओं के भविष्य के साथ खिलवाड़ किया है। अग्निपथ स्कीम को तुरंत प्रभाव से खत्म कर देना चाहिए। पायलट ने कहा कि भारतीय सेना दलगत राजनीति से ऊपर है। सदियों से दशकों से हमारे सैनिकों ने देश को गौरव दिया है। आज सैनिकों के भविष्य से साथ, सैनिक भर्ती की प्रक्रिया और करोड़ों नौजवानों के साथ खिलवाड़ करने का काम हो रहा है। इससे पहले देश में कभी हुआ। पायलट ने कहा कि भारतीय फौज पर हम सभी को फ्रख है। सैनिकों के साथ इस तरह का खिलवाड़ आवश्यक नहीं है। मोदी सरकार को समझना होगा। सचिन पायलट ने आज एआईसीसी कांग्रेस मुख्यालय दिल्ली में मीडिया से बात करते हुए मोदी सरकार पर जमकर प्रहार किए। पायलट ने कहा कि भाजपा के लोग कांग्रेस पर किसानों को भड़काने का आरोप लगाते थे। लेकिन युवाओं को किसने भड़काया है। इसका जवाब भाजपा को देना चाहिए। 

संबंधित खबरें

पायलट ने बीजेपी से पूछा- युवाओं को किसने भड़काया 

सचिन पायलट ने कहा कि अग्निपथ स्कीम में कुल 4 साल का सेवाकाल है। चार साल में ट्रेनिंग भी होगी। जवान छुट्टी पर भी जाएगा। जवान मुश्किल से सवा दो साल की नौकरी कर पाएगा। पायलट ने कहा कि जिन लोगों ने फौज की वर्दी पहनी है। वे समझते हैं। जब एक नौजवान को मालूम है कि ढ़ाई-तीन साल बाद बटालियन छोड़नी है तो वह संबंध और व्यवहार वह नहीं बना सकता। पायलट ने कहा कि जानबूझकर अग्निपथ स्कीम को युवाओं पर डाला गया है। हम समझते हैं। इस स्कीम को तुरंत प्रभाव से रोक देना चाहिए। फौज में सरहद पर खड़े होकर देश के लिए शहादत देने के साथ-साथ अपने साथियों के साथ एक जज्बात पैदा होते हैं। लेकिन सवा दो साल की सेवा में सैनिक का मनोबल गिर जाएगा। सैनिक का जब लगता है कि ढाई-तीन साल उसे जाना ही है तो फिर जोश की उम्मीद नहीं की जा सकती है। उल्लेखनी है कि सचिन पायलट  फिलहाल दिल्ली में है। राहुल गांधी को ईडी का समन देने के विरोध में विरोध-प्रदर्शन में शामिल होने के लिए पायलट दिल्ली गए हुए है। 

राजस्थान में स्कीम को लेकर बवाल

अग्निपथ स्कीम को लेकर राजस्थान में बवाल मचा हुआ है। आज जयपुर- जोधपुर में उग्र प्रदर्शन हुए। जबकि सीकर में युवाओं ने तोड़फोड़ की। पुलिस को हल्का बल का प्रयोग भी करना पड़ा। हनुमान बेनीवाल की पार्टी आरएलपी ने आज प्रदेश भर में स्कीम का विरोध किया और जिला कलेक्टरों के ज्ञापन दिए। जयपुर में विरोध प्रदर्शन को नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल ने संबोधित किया। बेनीवाल ने रक्षामंत्री राजनाथ सिंह पर वादे से मुकरने का आरोप लगाया। बेनीवाल ने कहा कि अग्निपथ स्कीम देशहित में बिलकुल भी नहीं है। देश का जवान बीजेपी का दिमाग ठीक कर देगा। संविदा आधारित सेना भर्ती का पूरे देश में विरोध हो रहा है। बेनीवाल ने कहा कि अग्निपथ स्कीम देशहित में नहीं है। मोदी सरकार को अपने फैसले पर फिर से विचार करना चाहिए। सेना का मनोबल गिरेगा।

.


What do you think?

Written by Haryanacircle

आरबीआई ने मास्टरकार्ड पर प्रतिबंध हटाया, इसे नए ग्राहकों को शामिल करने की अनुमति दी

Commonwealth Games: नीरज चोपड़ा करेंगे कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत की 37 सदस्यीय एथलेटिक्स टीम की अगुआई