अग्निपथ विरोध: बहादुरगढ़ में दिल्ली जा रहे 60 से ज्यादा युवाओं को हिरासत में लिया, दो ट्रैक्टर ट्रॉलियों में आए थे युवक


ख़बर सुनें

सेना में अग्निपथ योजना लागू करने के विरोध में प्रदर्शन करने दिल्ली जा रहे 60 से अधिक युवाओं को पुलिस ने बहादुरगढ़ में टीकरी बॉर्डर से पहले ही हिरासत में ले लिया। बसों में बैठाकर पुलिस लाइन झज्जर ले गई। युवाओं ने भारत माता की जय के नारे लगाए और अग्निपथ योजना वापस लेने की मांग की।  
 

भिवानी जिले के तोशाम और रोहतक के महम से दो ट्रैक्टर-ट्रॉलियों में सवार होकर आए 60 से अधिक युवा दिल्ली की ओर जा रहे थे। इन युवकों के आने की पूर्व सूचना के आधार पर जिला पुलिस ने बाईपास पर सेक्टर-9 के निकट नाकेबंदी कर ली थी। तीन उप पुलिस अधीक्षकों के नेतृत्व में बड़ी संख्या में पुलिस कर्मचारी बाईपास पर तैनात कर दिए गए। सुबह करीब साढ़े दस बजे दो ट्रैक्टर-ट्रॉलियों में सवार युवक आए तो पुलिस अधिकारियों ने उन्हें रुकवा लिया।

 

पुलिस ने युवकों को दिल्ली जाने के बजाय अपने घरों को वापस जाने के लिए समझाया। युवाओं ने बेरोजगारी को लेकर अपनी समस्या बताते हुए दिल्ली जाने की गुहार लगाई। लेकिन पुलिस ने जाने नहीं दिया तो युवक नेशनल हाईवे पर जाम लगाकर बैठ गए। धरना पर बैठे युवक भारत माता की जय व जय जवान जय किसान जैसे नारे लगाने लगे और अग्निपथ वापस लेने की मांग की। कुछ देर बाद युवकों ने दिल्ली जाने के लिए भागना शुरू कर दिया।

 

मगर उप पुलिस अधीक्षक राहुल देव, पवन कुमार शर्मा और अरविंद दहिया के नेतृत्व में पुुलिस सतर्क थी और भागते युवकों को एक-एक कर काबू कर लिया। सभी युवकों को पहले से तैयार खड़ी हरियाणा राज्य परिवहन की बसों में बैठाया और रवाना हो गई। मौके पर पुलिस अधिकारियों ने यह नहीं बताया कि हिरासत में लिए गए युवकों को कहां ले जाया जा रहा है।

 

डीएसपी राहुल देव ने कहा कि हिरासत में लिए गए सभी युवक हमारे बच्चे हैं, हम भी उनके अच्छा भविष्य चाहते हैं। फिलहाल उन्हें सुरक्षित स्थान पर ले जाकर भोजन करवाया जाएगा,, फिर सभी अपने घरों के लिए चले जाएंगे। हालांकि सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक हिरासत में लिए गए सभी युवकों को झज्जर में पुलिस लाइन ले जाया गया।
 

हिरासत में लिए युवकों ने कहा कि केंद्र सरकार उनके साथ अन्याय कर रही है। अग्निपथ से उनका भविष्य बरबाद हो जाएगा। चार साल सेना में सेवाएं देकर लौटने वाले युवक न इधर के रहेंगे और न उधर के रहेेंगे। इसलिए सरकार को सेना में पुरानी भर्ती व्यवस्था ही जारी रखनी होगी, अन्यथा हम कोई भी कुर्बानी देने को तैयार हैं।

विस्तार

सेना में अग्निपथ योजना लागू करने के विरोध में प्रदर्शन करने दिल्ली जा रहे 60 से अधिक युवाओं को पुलिस ने बहादुरगढ़ में टीकरी बॉर्डर से पहले ही हिरासत में ले लिया। बसों में बैठाकर पुलिस लाइन झज्जर ले गई। युवाओं ने भारत माता की जय के नारे लगाए और अग्निपथ योजना वापस लेने की मांग की।  

 

भिवानी जिले के तोशाम और रोहतक के महम से दो ट्रैक्टर-ट्रॉलियों में सवार होकर आए 60 से अधिक युवा दिल्ली की ओर जा रहे थे। इन युवकों के आने की पूर्व सूचना के आधार पर जिला पुलिस ने बाईपास पर सेक्टर-9 के निकट नाकेबंदी कर ली थी। तीन उप पुलिस अधीक्षकों के नेतृत्व में बड़ी संख्या में पुलिस कर्मचारी बाईपास पर तैनात कर दिए गए। सुबह करीब साढ़े दस बजे दो ट्रैक्टर-ट्रॉलियों में सवार युवक आए तो पुलिस अधिकारियों ने उन्हें रुकवा लिया।

 

पुलिस ने युवकों को दिल्ली जाने के बजाय अपने घरों को वापस जाने के लिए समझाया। युवाओं ने बेरोजगारी को लेकर अपनी समस्या बताते हुए दिल्ली जाने की गुहार लगाई। लेकिन पुलिस ने जाने नहीं दिया तो युवक नेशनल हाईवे पर जाम लगाकर बैठ गए। धरना पर बैठे युवक भारत माता की जय व जय जवान जय किसान जैसे नारे लगाने लगे और अग्निपथ वापस लेने की मांग की। कुछ देर बाद युवकों ने दिल्ली जाने के लिए भागना शुरू कर दिया।

 

मगर उप पुलिस अधीक्षक राहुल देव, पवन कुमार शर्मा और अरविंद दहिया के नेतृत्व में पुुलिस सतर्क थी और भागते युवकों को एक-एक कर काबू कर लिया। सभी युवकों को पहले से तैयार खड़ी हरियाणा राज्य परिवहन की बसों में बैठाया और रवाना हो गई। मौके पर पुलिस अधिकारियों ने यह नहीं बताया कि हिरासत में लिए गए युवकों को कहां ले जाया जा रहा है।

 

डीएसपी राहुल देव ने कहा कि हिरासत में लिए गए सभी युवक हमारे बच्चे हैं, हम भी उनके अच्छा भविष्य चाहते हैं। फिलहाल उन्हें सुरक्षित स्थान पर ले जाकर भोजन करवाया जाएगा,, फिर सभी अपने घरों के लिए चले जाएंगे। हालांकि सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक हिरासत में लिए गए सभी युवकों को झज्जर में पुलिस लाइन ले जाया गया।

 

हिरासत में लिए युवकों ने कहा कि केंद्र सरकार उनके साथ अन्याय कर रही है। अग्निपथ से उनका भविष्य बरबाद हो जाएगा। चार साल सेना में सेवाएं देकर लौटने वाले युवक न इधर के रहेंगे और न उधर के रहेेंगे। इसलिए सरकार को सेना में पुरानी भर्ती व्यवस्था ही जारी रखनी होगी, अन्यथा हम कोई भी कुर्बानी देने को तैयार हैं।

.


What do you think?

Written by Haryanacircle

महेंद्रगढ़: 15 किलो 510 ग्राम गांजे के साथ दो युवक गिरफ्तार, उत्तर प्रदेश से नशा लाकर बेचते थे, दो दिन के रिमांड पर

आपस में उलझे प्रत्याशी तो किसी बूथ पर पुलिस से भिड़े