अग्निपथ योजना के विरोध में युवाओं ने लगाया जाम


ख़बर सुनें

रतिया। केंद्र सरकार की सेना भर्ती में अग्निपथ योजना के विरोध में छात्र संगठनों ने युवाओं के साथ शहर में रोष मार्च निकाला। युवाओं ने संजय गांधी चौक पर केंद्र सरकार का पुतला फूंककर जोरदार नारेबाजी की और रोड जाम कर दिया। करीब दो घंटे तक लगे इस जाम की वजह से सड़क के दोनों ओर वाहनों की लंबी-लंबी कतारें लग गई। इसके बाद मौके पर तहसीलदार मोहन सियाल जामस्थल पर पहुंचे और छात्र संगठनों के सदस्यों को आश्वासन दिया कि वह उनकी मांग सरकार तक पहुंचा देंगे। इसके बाद ही युवाओं ने जाम खोला।
जाम लगा रहे युवाओं रवि रतिया, निर्भय सिंह, लवविंद्र, सुखविंद्र सोनी, गौरव सोनी, प्रेम सोनी, शंटी, गुरजंट, अमन मोंगा, सुदीप सहनाल, निशान महमड़ा सहित अन्य छात्रों ने कहा कि केंद्र सरकार सेना में भर्ती को लेकर जिस तरह से अग्निपथ योजना लेकर आई है, वह देश की सुरक्षा और युवाओं के लिए पूरी तरह से घातक है। जाम लगा रहे युवाओं ने कहा कि उन्होंने सेना की भर्ती को लेकर आवेदन किया हुआ है तथा उनका फिजिकल और मेडिकल टेस्ट भी हो गया है और अब उनकी लिखित परीक्षा बाकी है। परीक्षा पास करने को लेकर छात्रों ने विभिन्न विभिन्न अकादमियों में लाखों रुपये खर्च करके एडमिशन लिया हुआ है, ताकि सेना में भर्ती होकर देश सेवा कर सकें और अपने देश का नाम रोशन करें, लेकिन केंद्र सरकार में अग्निपथ योजना लाकर देश के युवाओं के भविष्य से खिलवाड़ किया है। उन्होंने कहा कि 17 साल की उम्र में भर्ती के बाद जवान बिना पेंशन के 21 साल की उम्र में रिटायर हो जाएगा, लेकिन उसके बाद उक्त युवा क्या करेगा इसके लिए सरकार ने कोई योजना नहीं बनाई। जिसको लेकर क्षेत्र के युवाओं में केंद्र सरकार की इस योजना के प्रति भारी रोष है। जाम लगा रहे युवाओं ने कहा कि जब तक क्षेत्र का प्रमुख प्रशासनिक अधिकारी और रतिया विधायक मौके पर आकर उनकी बात को प्रदेश और केंद्र सरकार तक पहुंचाने का आश्वासन नहीं देते तब तक वह जाम नहीं खोलेंगे। वहीं जाम लगने की सूचना पर 2 घंटे बाद तहसीलदार विजय मोहन सियाल मौके पर पहुंचे और युवाओं की मांगों को उच्च अधिकारियों तक पहुंचाने का आश्वासन दिया, जिसके बाद जाम खोल दिया गया।
जाम के बीच से जबरदस्ती ट्रैक्टर निकालने लगा चालक
छात्र संगठन जब जाम लगा रहे थे तो स्थिति उस वक्त तनावपूर्ण हो गई, जब एक युवक अपने ट्रैक्टर को जबरदस्ती जाम लगा रहे लोगों के बीच में से निकालने लगा। इस पर जाम लगा रहे छात्र संगठन के सदस्य उग्र हो गए और उन्होंने ट्रैक्टर को घेर कर ट्रैक्टर चला रहे युवक को नीचे उतारना शुरू कर दिया, लेकिन मौके पर मौजूद पुलिस बल के सदस्यों ने बीच-बचाव करके ट्रैक्टर चालक वहां से निकालकर उसे वापस भेज दिया। वहीं इसी दौरान निकाय चुनाव में एक उम्मीदवार का प्रचार कर रहा एक ऑटो रिक्शा चालक वहां से गुजरने लगा तो जाम लगा रहे छात्रों ने उसे घेर लिया और उसे भगा दिया। हालांकि उसी दौरान जाम के दौरान बीएसएफ के वाहन और एक एंबुलेंस वहां से निकल रहे थे तो युवाओं ने उन्हें जय हिंद, जय भारत के नारे लगाकर आगे निकलने दिया। अन्य वाहनों को जाम से नहीं निकलने दिया।

अग्निपथ के खिलाफ रोष प्रदर्शन करते युवा।

अग्निपथ के खिलाफ रोष प्रदर्शन करते युवा।– फोटो : Fatehabad

रतिया। केंद्र सरकार की सेना भर्ती में अग्निपथ योजना के विरोध में छात्र संगठनों ने युवाओं के साथ शहर में रोष मार्च निकाला। युवाओं ने संजय गांधी चौक पर केंद्र सरकार का पुतला फूंककर जोरदार नारेबाजी की और रोड जाम कर दिया। करीब दो घंटे तक लगे इस जाम की वजह से सड़क के दोनों ओर वाहनों की लंबी-लंबी कतारें लग गई। इसके बाद मौके पर तहसीलदार मोहन सियाल जामस्थल पर पहुंचे और छात्र संगठनों के सदस्यों को आश्वासन दिया कि वह उनकी मांग सरकार तक पहुंचा देंगे। इसके बाद ही युवाओं ने जाम खोला।

जाम लगा रहे युवाओं रवि रतिया, निर्भय सिंह, लवविंद्र, सुखविंद्र सोनी, गौरव सोनी, प्रेम सोनी, शंटी, गुरजंट, अमन मोंगा, सुदीप सहनाल, निशान महमड़ा सहित अन्य छात्रों ने कहा कि केंद्र सरकार सेना में भर्ती को लेकर जिस तरह से अग्निपथ योजना लेकर आई है, वह देश की सुरक्षा और युवाओं के लिए पूरी तरह से घातक है। जाम लगा रहे युवाओं ने कहा कि उन्होंने सेना की भर्ती को लेकर आवेदन किया हुआ है तथा उनका फिजिकल और मेडिकल टेस्ट भी हो गया है और अब उनकी लिखित परीक्षा बाकी है। परीक्षा पास करने को लेकर छात्रों ने विभिन्न विभिन्न अकादमियों में लाखों रुपये खर्च करके एडमिशन लिया हुआ है, ताकि सेना में भर्ती होकर देश सेवा कर सकें और अपने देश का नाम रोशन करें, लेकिन केंद्र सरकार में अग्निपथ योजना लाकर देश के युवाओं के भविष्य से खिलवाड़ किया है। उन्होंने कहा कि 17 साल की उम्र में भर्ती के बाद जवान बिना पेंशन के 21 साल की उम्र में रिटायर हो जाएगा, लेकिन उसके बाद उक्त युवा क्या करेगा इसके लिए सरकार ने कोई योजना नहीं बनाई। जिसको लेकर क्षेत्र के युवाओं में केंद्र सरकार की इस योजना के प्रति भारी रोष है। जाम लगा रहे युवाओं ने कहा कि जब तक क्षेत्र का प्रमुख प्रशासनिक अधिकारी और रतिया विधायक मौके पर आकर उनकी बात को प्रदेश और केंद्र सरकार तक पहुंचाने का आश्वासन नहीं देते तब तक वह जाम नहीं खोलेंगे। वहीं जाम लगने की सूचना पर 2 घंटे बाद तहसीलदार विजय मोहन सियाल मौके पर पहुंचे और युवाओं की मांगों को उच्च अधिकारियों तक पहुंचाने का आश्वासन दिया, जिसके बाद जाम खोल दिया गया।

जाम के बीच से जबरदस्ती ट्रैक्टर निकालने लगा चालक

छात्र संगठन जब जाम लगा रहे थे तो स्थिति उस वक्त तनावपूर्ण हो गई, जब एक युवक अपने ट्रैक्टर को जबरदस्ती जाम लगा रहे लोगों के बीच में से निकालने लगा। इस पर जाम लगा रहे छात्र संगठन के सदस्य उग्र हो गए और उन्होंने ट्रैक्टर को घेर कर ट्रैक्टर चला रहे युवक को नीचे उतारना शुरू कर दिया, लेकिन मौके पर मौजूद पुलिस बल के सदस्यों ने बीच-बचाव करके ट्रैक्टर चालक वहां से निकालकर उसे वापस भेज दिया। वहीं इसी दौरान निकाय चुनाव में एक उम्मीदवार का प्रचार कर रहा एक ऑटो रिक्शा चालक वहां से गुजरने लगा तो जाम लगा रहे छात्रों ने उसे घेर लिया और उसे भगा दिया। हालांकि उसी दौरान जाम के दौरान बीएसएफ के वाहन और एक एंबुलेंस वहां से निकल रहे थे तो युवाओं ने उन्हें जय हिंद, जय भारत के नारे लगाकर आगे निकलने दिया। अन्य वाहनों को जाम से नहीं निकलने दिया।

अग्निपथ के खिलाफ रोष प्रदर्शन करते युवा।

अग्निपथ के खिलाफ रोष प्रदर्शन करते युवा।– फोटो : Fatehabad

.


What do you think?

Written by Haryanacircle

10वीं की परीक्षा में छात्राओं ने लहराया परचम, 69.75 फीसदी विद्यार्थी पास

पिकनिक मनाने भी जाना पड़ रहा अग्रोहा और हिसार