अग्निपथ के विरोध में 20 जून को प्रदेशभर में टोल फ्री करेंगे चढूनी


ख़बर सुनें

रोहतक। अग्निपथ योजना के विरोध में युवाओं के साथ-साथ विभिन्न किसान संगठन सड़कों पर आ गए हैं। शनिवार को महम के चौबीसी चबूतरे पर खापों की अध्यक्षता में हुई बैठक में पहुंचे किसान नेता गुरनाम सिंह चढूनी ने अग्निपथ योजना के विरोध में 20 जून को प्रदेश के सभी टोल फ्री करवाने का एलान किया। उन्होंने बताया कि 22 जून को सांपला के सर छोटूराम स्मारक स्थल में आयोजित बैठक में हरियाणा सहित पंजाब, हिमाचल, राजस्थान, उत्तरप्रदेश व अन्य प्रदेशों के सभी किसान-मजदूर संगठनों को बुलाकर सरकार के खिलाफ बड़ा फैसला लिया जाएगा।
अग्निपथ योजना को गलत ठहराते हुए गुरनाम सिंह चढूनी ने कहा कि सरकार बार-बार गलत नीतियां लाकर जनता के साथ अन्याय कर रही है। करीब एक साल तक किसानों के शांतिपूर्ण आंदोलन के सामने सरकार ने गलती मानते हुए तीन कृषि कानूनों को वापस लिया था। युवाओं को शांतिपूर्ण आंदोलन के जरिए सरकार का विरोध करना चाहिए। हिंसात्मक गतिविधियां देश की ही संपत्ति का नुकसान करेंगी। किसान आंदोलन के संघर्ष से सीख लेकर योजना का विरोध करेंगे। अग्निपथ योजना युवाओं के भविष्य के साथ खिलवाड़ है। सरकार को इस योजना को वापस लेकर सेना में खाली पड़े पदों को तुरंत भरना चाहिए।
बीते शुक्रवार को रोहतक में स्थित भाजपा कार्यालय के बाहर एक दिवसीय भूख हड़ताल कर गुरनाम सिंह चढूनी ने अग्निपथ योजना का विरोध किया था। रविवार को जींद में आयोजित युवाओं व किसान संगठनों की बैठक में गुरनाम सिंह चढूनी पहुंचकर संबोधित करेंगे।

रोहतक। अग्निपथ योजना के विरोध में युवाओं के साथ-साथ विभिन्न किसान संगठन सड़कों पर आ गए हैं। शनिवार को महम के चौबीसी चबूतरे पर खापों की अध्यक्षता में हुई बैठक में पहुंचे किसान नेता गुरनाम सिंह चढूनी ने अग्निपथ योजना के विरोध में 20 जून को प्रदेश के सभी टोल फ्री करवाने का एलान किया। उन्होंने बताया कि 22 जून को सांपला के सर छोटूराम स्मारक स्थल में आयोजित बैठक में हरियाणा सहित पंजाब, हिमाचल, राजस्थान, उत्तरप्रदेश व अन्य प्रदेशों के सभी किसान-मजदूर संगठनों को बुलाकर सरकार के खिलाफ बड़ा फैसला लिया जाएगा।

अग्निपथ योजना को गलत ठहराते हुए गुरनाम सिंह चढूनी ने कहा कि सरकार बार-बार गलत नीतियां लाकर जनता के साथ अन्याय कर रही है। करीब एक साल तक किसानों के शांतिपूर्ण आंदोलन के सामने सरकार ने गलती मानते हुए तीन कृषि कानूनों को वापस लिया था। युवाओं को शांतिपूर्ण आंदोलन के जरिए सरकार का विरोध करना चाहिए। हिंसात्मक गतिविधियां देश की ही संपत्ति का नुकसान करेंगी। किसान आंदोलन के संघर्ष से सीख लेकर योजना का विरोध करेंगे। अग्निपथ योजना युवाओं के भविष्य के साथ खिलवाड़ है। सरकार को इस योजना को वापस लेकर सेना में खाली पड़े पदों को तुरंत भरना चाहिए।

बीते शुक्रवार को रोहतक में स्थित भाजपा कार्यालय के बाहर एक दिवसीय भूख हड़ताल कर गुरनाम सिंह चढूनी ने अग्निपथ योजना का विरोध किया था। रविवार को जींद में आयोजित युवाओं व किसान संगठनों की बैठक में गुरनाम सिंह चढूनी पहुंचकर संबोधित करेंगे।

.


What do you think?

Written by Haryanacircle

शिव मंदिर का ताला तोड़कर तीन दानपात्र से नकदी निकाल ले गए दो युवक

कानपुर:किसान के बेटे ने यूपी बोर्ड की हाई स्कूल की परीक्षा में किया टॉप,प्रदेश में प्रथम आकर बढ़ाया मान