अग्निपथ के विरोध में हल्ला बोल


ख़बर सुनें

अंबाला सिटी। अग्निपथ योजना के खिलाफ विरोध प्रदर्शन जारी है। शुक्रवार को संयुक्त किसान मोर्चा के बैनर तले किसानों ने अग्निपथ योजना के खिलाफ प्रदर्शन किया। किसानों ने उपायुक्त के माध्यम से राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौंपा और योजना को तुरंत प्रभाव से वापस लेने की मांग की। वहीं, किसानों ने युवाओं का समर्थन करते हुए कंधे से कंधा मिलाकर उनके साथ चलने का आश्वासन दिया। किसानों ने कहा कि जब तक सरकार उनकी मांगें नहीं मान लेती, तब तक विभिन्न माध्यमों से उनका प्रदर्शन जारी रहेगा।
किसान गुलाब सिंह, जय सिंह व अन्य ने ज्ञापन देते हुए बताया कि सरकार की इस योजना से सीधे तौर पर युवाओं का भविष्य खराब होगा। योजना के अनुसार युवाओं को केवल चार साल के लिए ही आर्मी में भर्ती किया जाएगा। उसके बाद उन्हें सेवानिवृत्त कर दिया जाएगा जो पूरी तरह से गलत है। वहीं, सेवानिवृत्ति के बाद हरियाणा सरकार की ओर से ही रोजगार देने की बात कही जा रही है, परंतु स्थिति उसके बिल्कुल उलट है। ऐसे में युवाओं का भविष्य पूरी तरह से खतरे है। सरकार को तुरंत प्रभाव से इस योजना को वापस लेते हुए पुराने तरीके से ही भर्ती करनी चाहिए।
पुरानी भर्तियों प्रक्रिया को करें पूरा
किसानों ने ज्ञापन के माध्यम से मांग की है कि जो पुरानी भर्ती प्रक्रिया अंतिम चरण में पहुंच गई थी। उनका भी परिणाम नहीं निकाला गया है। इसके अलावा कुछ भर्तियों की प्रक्रिया में केवल ज्वाइनिंग लेटर देने रह गए थे, उन्हें भी रद्द कर दिया गया। इससे बहुत से युवाओं के सपने टूट गए हैं। सरकार को उन भर्तियों को पुराने तरीके से ही पूरा करना चाहिए।

अंबाला सिटी। अग्निपथ योजना के खिलाफ विरोध प्रदर्शन जारी है। शुक्रवार को संयुक्त किसान मोर्चा के बैनर तले किसानों ने अग्निपथ योजना के खिलाफ प्रदर्शन किया। किसानों ने उपायुक्त के माध्यम से राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौंपा और योजना को तुरंत प्रभाव से वापस लेने की मांग की। वहीं, किसानों ने युवाओं का समर्थन करते हुए कंधे से कंधा मिलाकर उनके साथ चलने का आश्वासन दिया। किसानों ने कहा कि जब तक सरकार उनकी मांगें नहीं मान लेती, तब तक विभिन्न माध्यमों से उनका प्रदर्शन जारी रहेगा।

किसान गुलाब सिंह, जय सिंह व अन्य ने ज्ञापन देते हुए बताया कि सरकार की इस योजना से सीधे तौर पर युवाओं का भविष्य खराब होगा। योजना के अनुसार युवाओं को केवल चार साल के लिए ही आर्मी में भर्ती किया जाएगा। उसके बाद उन्हें सेवानिवृत्त कर दिया जाएगा जो पूरी तरह से गलत है। वहीं, सेवानिवृत्ति के बाद हरियाणा सरकार की ओर से ही रोजगार देने की बात कही जा रही है, परंतु स्थिति उसके बिल्कुल उलट है। ऐसे में युवाओं का भविष्य पूरी तरह से खतरे है। सरकार को तुरंत प्रभाव से इस योजना को वापस लेते हुए पुराने तरीके से ही भर्ती करनी चाहिए।

पुरानी भर्तियों प्रक्रिया को करें पूरा

किसानों ने ज्ञापन के माध्यम से मांग की है कि जो पुरानी भर्ती प्रक्रिया अंतिम चरण में पहुंच गई थी। उनका भी परिणाम नहीं निकाला गया है। इसके अलावा कुछ भर्तियों की प्रक्रिया में केवल ज्वाइनिंग लेटर देने रह गए थे, उन्हें भी रद्द कर दिया गया। इससे बहुत से युवाओं के सपने टूट गए हैं। सरकार को उन भर्तियों को पुराने तरीके से ही पूरा करना चाहिए।

.


What do you think?

Written by Haryanacircle

Chandigarh: मूसेवाला के गीत की धुन पर चंडीगढ़ ट्रैफिक पुलिस कर्मी ने गाया गाना, लोगों को यातायात नियमों के प्रति किया जागरूक

हनुमान बेनीवाल की टिप्पणी से आहत दिव्या समर्थक हुए लामबंद, सांसद बोले- दिव्या को शादी कर लेनी चाहिए; जानें मामला