अग्निपथ के विरोध में युवाओं ने लगाया जाम, पथराव किया, एक सब इंस्पेक्टर समेत पांच पुलिसकर्मी घायल


ख़बर सुनें

जींद। केंद्र सरकार की अग्निपथ योजना के विरोध में शुक्रवार को जींद में बड़ी संख्या में युवा सड़क पर उतर आए। हजारों युवाओं ने बस स्टैंड पर सड़क जाम कर दिया। आक्रोशित युवाओं ने पुलिस पर पथराव किया। यह देख पुलिसकर्मियों ने आंसू गैस के गोले छोड़े और युवाओं को खदेड़ दिया। पथराव में एक सब-इंस्पेक्टर समेत पांच पुलिसकर्मी घायल हो गए जबकि एक फायर ब्रिगेड और डीएसपी की गाड़ी के शीशे टूट गए। पुलिस ने 18 युवाओं को हिरासत में लिया। इनमें कुछ नामजद तो सैकड़ों अन्य के खिलाफ मामला दर्ज किया है। लगभग तीन घंटे तक बस स्टैंड पर ताला लटका रहा जिससे यात्रियों को परेशानी हुई। वहीं नरवाना में भी दिल्ली-बठिंडा रेलवे मार्ग को जाम कर दिया।
शहर के विभिन्न कॉलेजों और कोचिंग सेंटरों में पढ़ने वाले युवक सुबह 10 बजे पुराना बस स्टैंड के पास जमा होने शुरू हो गए। इसके बाद वे नारेबाजी करते हुए गांव पिंडारा में स्थित नये बस स्टैंड के मुख्य गेट पर धरने पर बैठ गए। यहां भारी संख्या में पुलिसकर्मी तैनात किए गए थे। इसी दौरान युवाओं ने पुलिस पर पथराव कर दिया और पिंडारा गांव की तरफ भागने लगे। पुलिस ने भीड़ को हटाने के लिए बल प्रयोग किया और काफी आंसू गैस के गोले छोड़े। पथराव में डिटेक्टिव के इंचार्ज सब- इंस्पेक्टर आशीष को सिर में चोटें आईं। उनको नागरिक अस्पताल में दाखिल करवाया गया जबकि चार अन्य पुलिसकर्मियों को मामूली चोर्टें आइं। पथराव में फायर ब्रिगेड की गाड़ी तथा डीएसपी की गाड़ी के शीशे टूट गए। गांव पिंडारा की तरफ भाग 18 युवकों को पकड़ कर पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया। पुलिस ने सैकड़ों युवाओं के खिलाफ मामला भी दर्ज किया है। प्रशासन ने बस स्टैंड पर सुरक्षा की दृष्टि से ताला लगा दिया। लगभग तीन घंटे बाद बस स्टैंड का ताला खुला और यातायात सामान्य हो पाया। युवाओं ने लगभग तीन घंटे तक बस स्टैंड के सामने बाईपास पर जमकर हंगामा किया। इस दौरान केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। युवाओं का कहना है कि अग्निपथ योजना युवाओं के भविष्य के साथ खिलवाड़ है।
दोपहर बाद दो बजे हुई सामान्य हुई स्थिति
युवाओं के तितर-बितर होने के बाद दोपहर बाद लगभग दो बजे स्थिति सामान्य हो पाई। लगभग तीन घंटे तक शहर में तनाव की स्थिति रही। शहर के सबसे व्यस्त मार्ग गोहाना रोड पर दोपहर तक जाम की स्थिति बनी रही। पूरे दिन शहर में पुलिस की गाड़ियों के सायरन गूंजते रहे। पुलिस को अलर्ट मोड पर रखा गया है।
नरवाना में रेलवे ट्रैक रहा जाम
अग्निपथ योजना के विरोध में नरवाना में युवाओं ने रेलवे ट्रैक जाम कर दिया। युवा जींद-दिल्ली-भटिंडा रेलवे ट्रैक के बीचों बीच बैठ गए और रेलवे ट्रैक बाधित कर दिया। युवाओं की बढ़ती संख्या को देखते हुए पुलिस हाई अलर्ट मोड पर आ गई है और एक मालगाड़ी को रेलवे स्टेशन के आउटर पर ही रोका और दो ट्रेनें जाखल जंक्शन पर रोकी दी गईं। नरवाना रेलवे स्टेशन को पुलिस छावनी में बदल दिया गया। नरवाना एएसपी कुलदीप सिंह और रेलवे पुलिस मौके पर मौजूद रहे। अभी तक रेल ट्रैक खुल नहीं पाया है।

जींद। केंद्र सरकार की अग्निपथ योजना के विरोध में शुक्रवार को जींद में बड़ी संख्या में युवा सड़क पर उतर आए। हजारों युवाओं ने बस स्टैंड पर सड़क जाम कर दिया। आक्रोशित युवाओं ने पुलिस पर पथराव किया। यह देख पुलिसकर्मियों ने आंसू गैस के गोले छोड़े और युवाओं को खदेड़ दिया। पथराव में एक सब-इंस्पेक्टर समेत पांच पुलिसकर्मी घायल हो गए जबकि एक फायर ब्रिगेड और डीएसपी की गाड़ी के शीशे टूट गए। पुलिस ने 18 युवाओं को हिरासत में लिया। इनमें कुछ नामजद तो सैकड़ों अन्य के खिलाफ मामला दर्ज किया है। लगभग तीन घंटे तक बस स्टैंड पर ताला लटका रहा जिससे यात्रियों को परेशानी हुई। वहीं नरवाना में भी दिल्ली-बठिंडा रेलवे मार्ग को जाम कर दिया।

शहर के विभिन्न कॉलेजों और कोचिंग सेंटरों में पढ़ने वाले युवक सुबह 10 बजे पुराना बस स्टैंड के पास जमा होने शुरू हो गए। इसके बाद वे नारेबाजी करते हुए गांव पिंडारा में स्थित नये बस स्टैंड के मुख्य गेट पर धरने पर बैठ गए। यहां भारी संख्या में पुलिसकर्मी तैनात किए गए थे। इसी दौरान युवाओं ने पुलिस पर पथराव कर दिया और पिंडारा गांव की तरफ भागने लगे। पुलिस ने भीड़ को हटाने के लिए बल प्रयोग किया और काफी आंसू गैस के गोले छोड़े। पथराव में डिटेक्टिव के इंचार्ज सब- इंस्पेक्टर आशीष को सिर में चोटें आईं। उनको नागरिक अस्पताल में दाखिल करवाया गया जबकि चार अन्य पुलिसकर्मियों को मामूली चोर्टें आइं। पथराव में फायर ब्रिगेड की गाड़ी तथा डीएसपी की गाड़ी के शीशे टूट गए। गांव पिंडारा की तरफ भाग 18 युवकों को पकड़ कर पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया। पुलिस ने सैकड़ों युवाओं के खिलाफ मामला भी दर्ज किया है। प्रशासन ने बस स्टैंड पर सुरक्षा की दृष्टि से ताला लगा दिया। लगभग तीन घंटे बाद बस स्टैंड का ताला खुला और यातायात सामान्य हो पाया। युवाओं ने लगभग तीन घंटे तक बस स्टैंड के सामने बाईपास पर जमकर हंगामा किया। इस दौरान केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। युवाओं का कहना है कि अग्निपथ योजना युवाओं के भविष्य के साथ खिलवाड़ है।

दोपहर बाद दो बजे हुई सामान्य हुई स्थिति

युवाओं के तितर-बितर होने के बाद दोपहर बाद लगभग दो बजे स्थिति सामान्य हो पाई। लगभग तीन घंटे तक शहर में तनाव की स्थिति रही। शहर के सबसे व्यस्त मार्ग गोहाना रोड पर दोपहर तक जाम की स्थिति बनी रही। पूरे दिन शहर में पुलिस की गाड़ियों के सायरन गूंजते रहे। पुलिस को अलर्ट मोड पर रखा गया है।

नरवाना में रेलवे ट्रैक रहा जाम

अग्निपथ योजना के विरोध में नरवाना में युवाओं ने रेलवे ट्रैक जाम कर दिया। युवा जींद-दिल्ली-भटिंडा रेलवे ट्रैक के बीचों बीच बैठ गए और रेलवे ट्रैक बाधित कर दिया। युवाओं की बढ़ती संख्या को देखते हुए पुलिस हाई अलर्ट मोड पर आ गई है और एक मालगाड़ी को रेलवे स्टेशन के आउटर पर ही रोका और दो ट्रेनें जाखल जंक्शन पर रोकी दी गईं। नरवाना रेलवे स्टेशन को पुलिस छावनी में बदल दिया गया। नरवाना एएसपी कुलदीप सिंह और रेलवे पुलिस मौके पर मौजूद रहे। अभी तक रेल ट्रैक खुल नहीं पाया है।

.


What do you think?

Written by Haryanacircle

पंजाब में एक और घोटाला: एक DFO के स्टिंग ने खोले राज, दो पूर्व मंत्रियों की जल्द हो सकती गिरफ्तारी

गौरल चौधरी 494 अंकों के साथ रही जिला टॉपर