अग्निपथ के विरोध में तीन घंटे टोल रहे पर्ची मुक्त, चंडीगढ़ और गुरुग्राम से लौटी बस, हरियाणा एक्सप्रेस रद्द


ख़बर सुनें

संवाद न्यूज एजेंसी
सिरसा। अग्निपथ के विरोध में उतरे युवाओं और किसानों ने सरकार के खिलाफ रोष जाहिर करते हुए भावदीन और खुईयांमलकाना टोल को तीन घंटे तक पर्ची मुक्त रखा। किसानों ने दोपहर 12 बजे टोल पर दरी बिछाकर कंप्यूटर और कैमरों को बंद करवा दिया। इसके चलते दोनों टोल प्लाजा पर करीब चार लाख के नुकसान होने का अनुमान लगाया जा रहा है। इसके अलावा सिरसा से गुरुग्राम और चंडीगढ़ के लिए रवाना हुई दो बसें बीच रास्ते से ही लौट आई। वहीं हरियाणा एक्सप्रेस सुबह के समय रवाना हुई, लेकिन शाम के समय इसे रद्द कर दिया।
अग्निपथ के विरोध में देश भर के युवाओं में काफी रोष है और वे योजना को रद्द करनेे की मांग कर रहे हैं। युवाओं ने 20 जून को भारत बंद का नारा दिया और विरोध जताने का ऐलान कर दिया। इसका भारतीय किसान चढू़नी ग्रुप ने समर्थन किया। किसान संगठनों ने भावदीन और खुईयामलकाना टोल को पर्ची मुक्त करने का ऐलान किया। ऐसे में किसान सोमवार को सुबह 11 बजे ही दोनों टोल प्लाजा पर एकत्र होना शुरू हो गए। किसानों ने 12 बजे टोल के बूथों और कैमरों को बंद करवा दिया, ताकि किसी भी वाहन चालक का टैक्स न कट सके। इस दौरान डिंग थाना और जिले का भारी पुलिस बल भी मौके पर तैनात रहा। दोपहर तीन बजे किसानों ने टोल खाली कर दिया और वहां पर दोबारा से पर्ची लगनी शुरू हो गई। रोष प्रदर्शन की अध्यक्षता चढूनी ग्रुप के प्रधान सिकंदर सिंह रोड़ी ने की। इस मौके पर किसान नेता हरविंद्र सिंह थिंद, भूपेंद्र सिंह वैदवाला, जग्गी माखा, जसकरण सिंह, दिनेश कुमार, प्रदीप पिलानी व युवा उपस्थित रहे।
लोकल रूटों पर ही बसों को किया रवाना
विरोध प्रदर्शन के दौरान यात्रियों को भी काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा।
सुबह के समय सिरसा से गुरुग्राम और चंडीगढ़ के लिए रोडवेज की बसें रवाना हुईं, लेकिन चंडीगढ़ के लिए चली बस को पेहवा से ही वापस लाना पड़ा, जबकि गुरुग्राम जाने वाली बस को हिसार से लौट आई। इसके बाद बसों को लॉकल रूटों पर रवाना किया गया।
ट्रेन रद्द होने से यात्रियों को झेलनी पड़ेगी परेशानी
सिरसा से चलकर दिल्ली जाने वाली रेल सुबह के समय सिरसा से रवाना तो हुई। लेकिन दोपहर बाद युवाओं की ओर से रोष प्रदर्शन किया जाने के कारण रेलवे की ओर से हरियाणा एक्सप्रेस को 21 जून को रद्द कर दिया है। दिल्ली से वापस आने वाली यह ट्रेन रद्द रहेगी। जिसके कारण यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।
रेलवे स्टेशन और बस स्टैंड पर भारी पुलिस बल रहा तैनात
अग्निपथ योजना के विरोध में देशभर में युवाओं की ओर से रोष जाहिर किया जा रहा है। ऐसे में सरकारी कार्यालयों में कोई भी शरारती तत्व उत्पात न मचा सके, इसके लिए रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड सहित अन्य स्थानों पर दिनभर पुलिस बल तैनात रहा। रेलवे स्टेशन पर जिला पुलिस और आरपीएफ के जवान दिनभर जांच निरीक्षण करते हुए नजर आए। इस दौरान यात्रियों की तलाशी भी ली गई और संदिग्ध व्यक्तियों पर नजर रखी गई।
किसानों की ओर से शांतिपूर्वक तरीके से रोष जाहिर किया गया है। इस दौरान टोल को तीन घंटे किसानों ने पर्ची मुक्त रखा था। पुलिस बल भी टोल प्लाजा पर दिनभर तैनात रहा। इससे टोल कंपनियों को करीब चार लाख रुपये का नुकसान होने का अनुमान है। गांधी, मैनेजर, भावदीन टोल प्लाजा, सिरसा।
चंडीगढ़ और गुरुग्राम के लिए रवाना हुई दो बसें ही लौटी है। युवाओं के प्रदर्शन के कारण उन्हें वापस बुलाया गया था। ताकि किसी तरह की घटना न हो सके। -सुधीर कुमार, बस स्टैंड इंचार्ज

संवाद न्यूज एजेंसी

सिरसा। अग्निपथ के विरोध में उतरे युवाओं और किसानों ने सरकार के खिलाफ रोष जाहिर करते हुए भावदीन और खुईयांमलकाना टोल को तीन घंटे तक पर्ची मुक्त रखा। किसानों ने दोपहर 12 बजे टोल पर दरी बिछाकर कंप्यूटर और कैमरों को बंद करवा दिया। इसके चलते दोनों टोल प्लाजा पर करीब चार लाख के नुकसान होने का अनुमान लगाया जा रहा है। इसके अलावा सिरसा से गुरुग्राम और चंडीगढ़ के लिए रवाना हुई दो बसें बीच रास्ते से ही लौट आई। वहीं हरियाणा एक्सप्रेस सुबह के समय रवाना हुई, लेकिन शाम के समय इसे रद्द कर दिया।

अग्निपथ के विरोध में देश भर के युवाओं में काफी रोष है और वे योजना को रद्द करनेे की मांग कर रहे हैं। युवाओं ने 20 जून को भारत बंद का नारा दिया और विरोध जताने का ऐलान कर दिया। इसका भारतीय किसान चढू़नी ग्रुप ने समर्थन किया। किसान संगठनों ने भावदीन और खुईयामलकाना टोल को पर्ची मुक्त करने का ऐलान किया। ऐसे में किसान सोमवार को सुबह 11 बजे ही दोनों टोल प्लाजा पर एकत्र होना शुरू हो गए। किसानों ने 12 बजे टोल के बूथों और कैमरों को बंद करवा दिया, ताकि किसी भी वाहन चालक का टैक्स न कट सके। इस दौरान डिंग थाना और जिले का भारी पुलिस बल भी मौके पर तैनात रहा। दोपहर तीन बजे किसानों ने टोल खाली कर दिया और वहां पर दोबारा से पर्ची लगनी शुरू हो गई। रोष प्रदर्शन की अध्यक्षता चढूनी ग्रुप के प्रधान सिकंदर सिंह रोड़ी ने की। इस मौके पर किसान नेता हरविंद्र सिंह थिंद, भूपेंद्र सिंह वैदवाला, जग्गी माखा, जसकरण सिंह, दिनेश कुमार, प्रदीप पिलानी व युवा उपस्थित रहे।

लोकल रूटों पर ही बसों को किया रवाना

विरोध प्रदर्शन के दौरान यात्रियों को भी काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा।

सुबह के समय सिरसा से गुरुग्राम और चंडीगढ़ के लिए रोडवेज की बसें रवाना हुईं, लेकिन चंडीगढ़ के लिए चली बस को पेहवा से ही वापस लाना पड़ा, जबकि गुरुग्राम जाने वाली बस को हिसार से लौट आई। इसके बाद बसों को लॉकल रूटों पर रवाना किया गया।

ट्रेन रद्द होने से यात्रियों को झेलनी पड़ेगी परेशानी

सिरसा से चलकर दिल्ली जाने वाली रेल सुबह के समय सिरसा से रवाना तो हुई। लेकिन दोपहर बाद युवाओं की ओर से रोष प्रदर्शन किया जाने के कारण रेलवे की ओर से हरियाणा एक्सप्रेस को 21 जून को रद्द कर दिया है। दिल्ली से वापस आने वाली यह ट्रेन रद्द रहेगी। जिसके कारण यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।

रेलवे स्टेशन और बस स्टैंड पर भारी पुलिस बल रहा तैनात

अग्निपथ योजना के विरोध में देशभर में युवाओं की ओर से रोष जाहिर किया जा रहा है। ऐसे में सरकारी कार्यालयों में कोई भी शरारती तत्व उत्पात न मचा सके, इसके लिए रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड सहित अन्य स्थानों पर दिनभर पुलिस बल तैनात रहा। रेलवे स्टेशन पर जिला पुलिस और आरपीएफ के जवान दिनभर जांच निरीक्षण करते हुए नजर आए। इस दौरान यात्रियों की तलाशी भी ली गई और संदिग्ध व्यक्तियों पर नजर रखी गई।

किसानों की ओर से शांतिपूर्वक तरीके से रोष जाहिर किया गया है। इस दौरान टोल को तीन घंटे किसानों ने पर्ची मुक्त रखा था। पुलिस बल भी टोल प्लाजा पर दिनभर तैनात रहा। इससे टोल कंपनियों को करीब चार लाख रुपये का नुकसान होने का अनुमान है। गांधी, मैनेजर, भावदीन टोल प्लाजा, सिरसा।

चंडीगढ़ और गुरुग्राम के लिए रवाना हुई दो बसें ही लौटी है। युवाओं के प्रदर्शन के कारण उन्हें वापस बुलाया गया था। ताकि किसी तरह की घटना न हो सके। -सुधीर कुमार, बस स्टैंड इंचार्ज

.


What do you think?

Written by Haryanacircle

पूरे दिन छाए रहे बादल, मौसम हुआ सुहाना

दुष्कर्म का झूठा मामला दर्ज कर 1.80 लाख वसूलने वाली मां बेटी गिरफ्तार